Mother's Day Special -2

 



मन की बात जान ले जो
आँखों से पढ़ ले जो दर्द हो चाहे ख़ुशी
आंसू की पहचान कर ले जो
वो हस्ती जो बेपन्हा प्यार करे
माँ ही तो है वो जो बच्चो के लिए जिए l



प्यार करना कोई तुमसे सीखे
प्यार करना कोई तुमसे सीखे
तुम ममता की मूरत ही नहीं
सब के दिल का एक टुकड़ा हो
मैं कहता हूं माँ तुम हमेशा ऐसी ही रहना l

मेरी प्यार की लिस्ट में है सिर्फ तुम्हारा नाम
सेलक्शन की भी लिस्ट में है सिर्फ तुम्हारा नाम
तुम ही मेरी माँ और दोस्त हो
मेरा प्यार हमेशा तुम्हारे साथ हो l



माँ की दुआ खाली नहीं जाती
उस की बददुआ भी टाली नहीं जाती
बर्तन मांझ कर भी माँ
तीन चार बच्चे पाल ही लेती है
मगर तीन चार बच्चो से
एक माँ नहीं पाली जाती l



माँ की ममता के कुछ अंदाज़ होते है
जगती आँखों में कुछ ख्वाब होते है
ज़रूरी नहीं की गम में ही आंसू निकले
मुस्कुराती आँखों में भी सैलाब होती है l



राम लिखा रेहमान लिखा
गीता और कुरान लिखा
जब बात हुई पूरी दुनिया को
एक लफ्ज़ में लिखने की
तब मैंने माँ का नाम लिखा l



मेरी चाहत का जो जहान है वो मेरी माँ
मेरी जमीन का जो आसमान है वो मेरी माँ
मेरा सब कुछ जिसके नाम है वो मेरी माँ
हंसी मेरी जिसके वजूद से है वो मेरी माँ l



तुझे कितना चाहता हूँ माँ
तुझे कभी ये बता नहीं सकता
मेरा हर साँस तेरा एहसान है
जब चाहे इसे ले लेना
छोड़ के ना जाना कभी
चाहे मेरी सांसे भी मुझसे ले लेना l



माँ की एक दुआ जिंदगी बना देगी
खुद रोयेगी मगर तुम्हे हंसा देगी
कभी भूल के भी ना माँ को रुलाना
एक छोटी सी गलती पूरा अर्श हिला देगी l


No comments:
Write comments