Mother's Day Special -1

 



माँ से रिश्ता कुछ ऐसा बनाया,
जिसको निगाहों में बिठाया जाएl 
रहे उसका मेरा रिश्ता कुछ ऐसा कि,
वो अगर उदास हो तो हमसे भी मुस्कुराया न जाये l



मेरी दुनिया में इतनी जो शौहरत,
है मेरी माँ की बदौलत हैl
ऐ मेरे ऊपर वाले और क्या देगा तु मुझे,
मेरी माँ ही मेरी सबसे बड़ी दौलत है l



माँ ने आखरी रोटी भी मेरी थाली में परोस दी,
जानें क्यों फिर भी मंदिर में भगवान ढूढ़ता हूँ मैं,
माँ के दिल जैसा दूनियाँ में कोई दिल नहीं... l



जब हमें बोलना भी नही आता था,
तब भी हमारी हर एक बात समझ जाती थी माँ
और आज जब हम बोलना सीख गये
तो बात-बात पर बोलते हैं,
“छोड़ो माँ आप नहीं समझोगे” l



माँ ने आखरी रोटी भी मेरी थाली में परोस दी,
जानें क्यों फिर भी मंदिर में भगवान ढूढ़ता हूँ मैं
माँ के दिल जैसा दूनियाँ में कोई दिल नहीं...



नींद अपनी भुला के सुलाया हमको,
आंसू अपने गिरा के हंसाया हमको,
दर्द कभी ना देना उन हस्तियों को,
भगवन ने माँ बाप बनाया जिनको l



माँ बिना जिंदगी वीरान होती है,
तनहा सफर में हर राह सुनसान होती है l
ज़िंदगी में माँ का होना ज़रूरी है,
माँ की दुआओं से ही हर मुश्किल आसान होती है l



अज़ीज़ भी वो है नसीब भी वो है,
दुनिया की भीड़ में करीब भी वो है,
उनकी दुआओं से चलती है जिंदगी,
मेरी क्यूंकि खुद भी वो है और तक़दीर भी वो है l



माँ से रिश्ता ऐसा बनाया जाये,
जिसको निगाहों में बैठाया जाये,
रहे उसका मेरा रिश्ता कुछ ऐसा कि,
वो अगर उदास हो तो हमसे मुस्कुराया ना जायेl


No comments:
Write comments