Hindi Love Shayari | हिन्दी लव शायरी

 



बहार-ए-इश्क़ मे डूब के देख कभी, 
जाम-ए-मोहब्बत पी के देख कभी
हर तरफ तेरा ही अक्स नज़र आएगा
मेरी आँखों मे प्यार से देख कभी।


अपनी हर साँस तेरी गुलाम कर रखी है,
लोगों मे ये ज़िंदगी बदनाम कर रखी है,
आईना भी नहीं अब तो किसी काम का,
हमने तो अपनी परछाईं भी तेरे नाम कर रखी है।


गीले शिकवे ना दिल से लगा लेना,
कभी मान जाना तो कभी मना लेना।
कल का क्या पता हम हों ना हों
जब भी मौका मिले थोड़ा हंस लेना और हंसा देना।


सिर्फ़ यादों का एक सिलसिला रह गया,
खुदा जाने उस से क्या रिश्ता रह गया,
एक चाँद खो गया जाने कहाँ,
एक सितारा उसे ढूंढता रह गया।


कोई अनजान जब अपना बन जाता है,
 ना जाने क्युँ वो बहुत याद आता है,
लाख भुलाना चाहो उस चेहरे को मगर,
 अक्स उसका हर चीत में नज़र आता है।


पलकों को कभी हमने भिगोए ही नहीं,
वो सोचते हैं की हम कभी रोये ही नहीं,
वो पूछते हैं कि ख्वाबो में किसे देखते हो?
और हम हैं की उनकी यादो में सोए ही नहीं।


No comments:
Write comments